भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बांधना / साधना सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बालक के रोने सा,
मन का होना
मचलना
फिर रूठना…
रूको,
अब बांधूंगी तुमको-
खूँटे से।
कस दूंगी रस्सी से
हाथ-पैर ।

लो ,
बांधा !
फिर भी हँसते हो ?
यह क्या !
मुँह खोल
चिढ़ाते हो
सारा संसार
मुझे दिखाते हो !
सच ही
तुम नटखट हो !
तुम्हें छोड़ दूंगी,
तो
जग कैसे देखूंगी !