भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाकी आना जाना है / विजय वाते

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन का मिलना ही मिलना है तन तो एक बहाना है
तेरा आना ही आना है बाकी आना जाना है

झरने परबत सपने तारे बादल नैया गीत गजल
वो था एक ज़माना अपना ये भी के ज़माना है

इस मेले में इक पल दो पल उस मेले कुछ ज्यादह पल
लौंट चलें अब पीछे यारों सांझ हुई घर जाना है

मंदिर मंदिर मूरत बेबस हर चौगड्ढे मस्जिद चुप
तेरा दर तेरा होना है बाकी खेल पुराना है