भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाजी लगी प्रेम की-1 / दिनेश कुमार शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहाँ है आदि-अन्त
वहीं है आवागमन- जीवन में जैसे
अनन्त में होता है केवल प्रवेश
होता ही नहीं कोई निकास
पार पाया नहीं जा सकता जैसे प्रेम में

प्रेम की भी
एक वैतरणी होती है
जिसका दूसरा तट नहीं होता