भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाज / ललित केशवान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिन बोलि बोडाजी
अब त अपणु राज ऐगे
सत्ता बी अपणा हात मा
पत्ता समेत ऐगे
परसे मंत्री जी छा बोलणा
बल चिन्ता नि कारा
जरा धीरज धारा
अब त सब जातिवाद का
जत्या नथे जाला
अर समाजवाद का बेपुच्छा सांड पळे जाला।
बोडाजी न बोलि बाबा
बाद-बाद त मि नि जणदो
पण हां बाज-बाज बोल
अज्काल सब बाज बण्यां छन
जातिबाज, पैसाबाज, दारूबाज, ध्वकाबाज
छुर्राबाज, तुर्राबाज, लगडिबाज, गवदडिबाज,
पत्तीबाज, गप्पीबाज, लटकाबाज, झटकाबाज,
सटकाबाज, पटकाबाज
अब त वी बोल लाटा
जख इथगा बाजी बाज ह्वाला
वे मुल्का क्य हाल ह्वाला।।