भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाडीवाला बाडीखोल बाडी की किँवाडी खोल / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दूब लाने का गीत


बाडीवाला बाडीखोल बाडी की किँवाडी खोल,
 छोरियाँ आई दूब लेणथे कुण्याजी री बेटी हो,
 कुण्याजी री भेँण हो,
 के थारो नाम है,
म्हेँ बिरमादासजी री बेटी हाँ,
 ईसरदासजी री भेँण हाँ,
 रोवाँ म्हारो नाम है।