भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बात कोई खास है / राजेन्द्र शर्मा 'मुसाफिर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बात कोई खास है
मींत आज उदास है।

भींच जरड़ी बैठग्यौ
काळजै उकळास है।

व्हैम बैरी काढ दै
हेत मांय उजास है।

पूर गाभा सांभ लै
मांणसां रौ वास है।
मूंन धार्यौ पारखी
बोलणै री आस है।

जीव औ जंजाळ है
मुगत तौ रैदास है।