भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बात है शब्द नहीं हैं / रवीन्द्र भ्रमर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बात है
शब्द नहीं हैं
कैसे खोल दूँ ग्रंथित मन !!

तुम अधीर प्रान हुए कुछ सुनने को
मर्म के उगे दो आखर चुनने को,
प्रीति है
मुक्ति नहीं है,
कैसे तोड़ दूँ सब बंधन ?

बाँसुरी लगी है लाज नहीं बजेगी
स्वर की सौतन राधा नहीं सजेगी,
कण्ठ है
गान नहीं है,
रूठ न जाना मनमोहन !

पाँव लग रहूँगी मौन, सहूँगी व्यथा,
कह न सकूँगी अपने स्वप्न की कथा,
भाव हैं
छंद नहीं हैं,
मौन ही बनेगा समर्पन !!

कैसे खोल दूँ ग्रंथित मन ?
बात है, शब्द नहीं हैं
मौन ही बनेगा समर्पन !!