भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बादलों का ज़ोर है, बरसात है / गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बादलों का ज़ोर है, बरसात है।
नाचता मन मोर है, बरसात है।।

झींगुरी आवाज पर चर्चा हुई,
क्रान्ति का यह शोर है, बरसात है।।

हम यहाँ जलते-तड़पते, वे वहाँ,
नेह की यह डोर है, बरसात है।।

घुप अँधेरा हर तरफ फैला हुआ,
डर रहा मन, चोर है, बरसात है।।

बिजलियाँ किस पर गिरेंगी क्या पता
खौफ़ अब हर ओर है, बरसात है।।