भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बादल देख डरी सखी री बादल देख डरी / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बादल देख डरी सखी री बादल देख डरी
काली-काली घटा उमड़ आई,
बरसत झरी-झरी। सखी री...
जित जाऊं उत पानी-पानी
भई सब भूमि हरि। सखी री...
फूले फूल क्यारिन बगियन,
लगे सुहावन खेत सखी री। सखी री...
मेरे पिया परदेश बसत हैं,
चैन न एक घरी। सखी री...
आ जावें परदेश से प्रीतम,
ऐसो करो जतन तो कछु री। बादल...
मैं तो राह तकत हूं पिया की,
द्वारे खड़ी खड़ी। सखी री...