भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बादल / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या खोया है
बादल का जो
इतना गरज रहा है सब पर।
जाने क्या वह
ढूँढ़ रहा है
एक अनूठी टार्च जलाकर।
अरे-अरे क्यों
रोते हो तुम
ढुलकाकर यूँ आँसू बादल।
तुम तो अच्छे
अच्छे बच्चे
क्यों रोते फिर ऐसे पागल।।