भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बादशाहत दो जहाँ की भी जो होवे मुझको / सौदा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बादशाहत दो जहाँ की भी जो होवे मुझको
तेरे कूचे की गदाई[1] से न खोवे मुझको

आठ पहर उसको है नज़्ज़ार-ए-ख़ूबाँ की[2] तलाश
कहीं ये दीदा[3] डरूँ हूँ न डुबोवे मुझको

की मैं जब अर्ज़े-तमन्ना तो ये बोला ज़ालिम
फिर कहे मुझसे तू ये बात तो रोवे मुझको

ख़िरमने-बर्क़ज़दा का[4] हूँ वो दाना कि मुझे
न कोई मुर्ग़ चखे नै[5] कोई बोवे मुझको

ख़ुश्क रखती है कभू चश्म जो दामन तुझ बिन
आस्तीं चाहती है ख़ूँ से भिगोवे मुझको

क़ता
कुछ कहें गो कि मुख़ालिफ़[6] मिरे हक़ में 'सौदा'
वूँ[7] न समझे वो मुझे कहते हैं जो वे मुझको
हों गरेबाने-दिले-यार में उल्फ़त का गिल[8]
दाग़ नयन दामने-इस्मत पे जो धोवे मुझको

शब्दार्थ
  1. भीख माँगना
  2. सुन्दरियों के दर्शन की
  3. दृष्टि
  4. बिजली से जले खलिहान का
  5. न तो
  6. विरोधी
  7. वैसा
  8. प्रियतम के हृदय के गरेबान में प्रेम का कीचड़ लगे