भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बादानोशी हर घड़ी अच्छी नहीं / सिया सचदेव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बादानोशी हर घड़ी अच्छी नहीं
देखो इतनी मैकशी अच्छी नहीं
 
जिस से लग जाए किसी के दिल पे ठेस
इतनी सच्ची बात भी अच्छी नहीं
 
क्या पता किस पल में क्या हो जायेगा
कैफ़ियत बीमार की अच्छी नहीं
 
चंद पल घर पे भी रहना चाहिए
इस क़दर आवारगी अच्छी नहीं
 
घर के बाहर फेक दो घर के चराग़
ग़म कदे में रौशनी अच्छी नहीं

आ न जाएँ वह अचानक ऐ सिया
एक दम इतनी ख़ुशी अच्छी नहीं