भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बान्हल जाइछै सखेर लाडुआ / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

दुलहा विवाह करने के लिए ससुराल जाने को तैयर है। उसे दूर जाना है, इसलिए उससे लड्डू और दूध खाने का अनुरोध किया गया है। इस विधि में लड़की या लड़के का मामा अपनी बहन को इमली घोंटाता है और कुछ उपहार भी देता है।

बान्हल जाइछै संखेर[1] लाडुआ[2], औंटल जाइछै दूध।
पीबी लेहो आँरे दुलरुआ, जाय छअ बड़ी रे दूर॥1॥
अम्माँ सेॅ मिलि रे दुलरुआ, जाय छअ बड़ी रे दूर।
बाबा सेॅ मिलि ले रे दुलरुआ, जाय छअ बड़ी रे दूर॥2॥
इमली घोंटी[3] ले रे दुलरुआ, जैबे बड़ी रे दूर।
ऐंगना बूली ले[4] दुलरुआ, जैबे बड़ी रे दूर॥3॥

शब्दार्थ
  1. शक्कर; शंख के समान
  2. लड्डू
  3. इमली घोट लों; इमली-घोंटाई की विधि विवाह में संपन्न होती है। लड़का या लड़की का मामा उसकी आम्र-पल्लव दाँत से खोंटाता है। इसी विधि को ‘इमी-घोंटाई’ कहते हैं। पूर्णिया जिले में कहीं कहीं विवाह के लिए वर के प्रस्थान करने पर दुलहे को उसकी माँ, चाची या भाभी अपनी जाँघा पर बैठाकर दूध और केला खिलाकर इस विधि को संपन्न करती है।
  4. घूम लो