भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाबूजी का दिवाला / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आठ-आठ सौ की दो साड़ी,
तेरह सौ का चश्मा काला।

मां बोली कुल कितना होगा,
है क्या तुमने जोड़ निकाला?

बेटा बोला, जोड़ ठीक है,
पर मां तुमने डाका डाला।

इसी तरह से तो निकला है,
बाबूजी का हाय दिवाला।