भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाबू धीरे से चलिऔ ससुर गलिया / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

इस गीत में दुलहे को ससुर की गली में अपने वस्त्राभूषणों को सँभालकर धीरे-धीरे चलने का निर्देश किया गया है।

बाबू धीरे से चलिऔ[1] ससुर गलिया।
दुलहा धीरे सेॅ चलिऔ ससुर गलिया।
ससुर गलिया हो ससुर गलिया॥1॥
तोहरऽ मौरी में लागल अनार कलिया।
बाबू धीरे सेॅ चलिऔ ससुर गलिया॥2॥
तोरे जोड़बा में लागल चंपा कलिया।
बाबू धीरे सेॅ चलिऔ ससुर गलिया॥3॥
ऊपर ताकबै[2] तऽ हिलत मौरिया।
नीचे ताकबै तऽ खसत[3] मौरिया।
बाबू धीरे सेॅ चलिऔ ससुर गलिया॥4॥

शब्दार्थ
  1. चलिए
  2. देखिएगा
  3. गिर जाएगा