भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बारह बरिस हम आस लगैलो / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अपने घर लौटने पर कोहबर में प्रवेश करते समय बहन द्वारा अपने भाई के ससुर की दरिद्रता का वर्णन इस गीत में हुआ है। बहन को आशा थी कि भैया को दहेज में मिले आभूषणों में उसे भी कुछ मिलेगा। लेकिन, वह निराश होकर अपने भाई के ससुर के घर की हीनता दिखलाने लगी है।

बारह बरिस हम आस लगैलों[1], भैया करतै[2] बिहा[3] गे माई।
भैया के हाथ सोना अँगुठी देतैन, ताहि लै गहना गढ़ायब गे माई॥1॥
कैसन दलिदर घर भैया बिहा कैले, कुछु नहिं जैतुक[4] देल गे माई॥2॥

शब्दार्थ
  1. लगाया
  2. करेगा
  3. विवाह
  4. किया