भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बारह संगी दीप, अन्हरिया काटि रहल अछि / धीरेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बारह संगी दीप, अन्हरिया काटि रहल अछि।
जल्दी बारह दीप अन्हरिया काटि रहल अछि।
मानल ई अन्हार ने बाहरकेर, भीतरकेर,
मानल ई अन्हार ने क्षणकेर, जीवनकेर।
मानल एहि अन्हारक अछि किछु ओर-छोर नहि।
मानि लेल जे हमरा जीवनमे आओत गऽ अब भोर नहि।
तैयो लिखल ‘भोरूकवा’ ई तँ मानि लेलह तों,
मरितहुँ काल ने आश गमाओल जानि लेलह तों।
तैयो बारह दीप, ज्ञान ओना जे अन्त हमर बस माटि रहल अछि।