भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बारा जीरा खोदियो रे राजा मारे / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बारा जीरा खोदियो रे राजा मारे
बारा जीरा खोदियो रे राजा मारे
बारा झीरा डो खोदियो रे
बारा झीरा डो खोदियो रे
चोज सांटी बारा झीरा खोदियो जा राजा बोले
चोज सांटी बारा झीरा खोदियो जा राजा बोले
चोज सांटी बारा झीरा खोदियो रे
चोज सांटी बारा झीरा खोदियो रे
बारा जीरा गांजा बीजो बिडेवाडो रानी मारे
बारा जीरा गांजा बीजो बिडेवाडो रानी मारे
बारा झीरा गांजा बीजो बीडे बोले
बारा झीरा गांजा बीजो बीडे बोले
गांजा बीजो चोज कामू हाजेवाला राजा बोले
गांजा बीजो चोज कामू हाजेवाला राजा बोले
गांजा बीजो जा चोज सांटी हाजे बोले
गांजा बीजो जा चोज सांटी हाजे बोले
गांजा पाला मलाटीये वा डो रानी मारे
गांजा पाला मलाटीये वा डो रानी मारे
गांजा पाला डो मलाटीवा
गांजा पाला डो मलाटीवा
गांजा नासा नूनू वाडो रानी मारे
गांजा नासा नूनू वाडो रानी मारे
गांजा नासा डो नून बोले
गांजा नासा डो नून बोले
ढिका भेरे कजलीबन बिन्दाराबन
ढिका भेरे कजलीबन बिन्दाराबन
गिटीज केनजा राजा मारे ढिका भेरे
गिटीज केनजा राजा मारे ढिका भेरे
कजलीबनन बिन्दराबनन गिटीज केरे
कजलीबनन बिन्दराबनन गिटीज केरे

स्रोत व्यक्ति - सिटारा बाई, ग्राम - रोशनी