भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बारिश-6 / पंकज राग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसकी पैदाइश के दिन बहुत तेज़ बारिश हुई थी
एक गीली-गीली-सी दुनिया में वह आया और
उसने अपने चारों तरफ़ फिसलते लोगों को देखा
उसने रोकना चाहा पर ख़ुद ही फिसलने लगा
पूरा बचपन वह अपने फिसलने पर हँसता रहा
फिर पाँवों में मोच आती गई
उम्र के साथ बढ़ती गई
हँसी रुकने लगी और जकड़न ने उसे स्थिर कर दिया

इस दौरान कितनी ही बारिशें हुईं
कितने ही पौधे पेड़ बन गए
आज वह जिससे भी मिलता है
सभी कहते हैं कि वे भी पहचानते हैं उन पेड़ों को
इस दुनिया मेम सब के सब तेज़ बारिशों की नस्लें हैं
यह राज़ अब उसने जान लिया है