भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बारूद में जो ढल गए हैं / मनोज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बारूद में जो ढल गए हैं

बिखरे हैं जो कचरे सरे बाज़ार में
लाइन लगी है उनके लिए सौ कतार में

वे सो रहे हैं बेखटक और बेहिसाब
पर, आज भी आगे हैं वो जीस्त की रफ़्तार में

हम ढल रहे हैं आज तलक इस खुमार में
आएगा कोई फर्क नए नेतावातार में

बारूद में जो ढल गए हैं जिस्म के कतरे
क्या वे रुला सकेंगे हमें आज के अखबार में

जीनत का ताज़महल या मज़नू की कब्रगाह
क्या तुम बना सकोगे मेरी यादगार में

ना तोप, ना बंदूक, ना ही एक मिसाइल
जब शब्द चीरते हों हमें आर-पार में

ना प्यार, ना विश्वास, ना ही महकते रिश्ते
बस! रह गए हैं अस्थि-पंजर आज के परिवार में