भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बार ही बारे विनवूं, गरवे से बाबुल / मालवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बार ही बारे विनवूं, गरवे से बाबुल
कातिक लगिन लिखाव हो
आला-लीला बांस कटाव
नागर बेल मंडवा छवाव
सुलतान दूले, रामदूले आनि बाजिया वे
हातीड़ा हठसाल बांदो, घोड़ी ला घुड़साल बांदो
बराती खे देवो जनिवास, साजन-समधी सास सेरी
जवाली अनपोय लाया, तिमन्यो अनपोय लाया
नाड़ा को रंग बदरंग
बाबुल उनखे बांध दीजो
गजरा अनगूंथ लाया, रेणी अनरंग लाया
दुपट्टा को रंग भदरंग
काकुल उनखे बांध दीजो
सुलतान दूले राम दूले रूस चलिया दे