भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाल्मीकि / ओम प्रकाश सेमवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाल्मीकि छा कुटिल अभागी,
ज्वानि तलक कवि हृदय नि जागी।
जनि सुमिरे दिवा राम को बाळी,
"रामायण"अद्भुत रंचि डाळी।।