भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाल विनय / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत मैं तुमसे पाता हूँ,
तुम्हे कुछ देने लाता हूँ।
सुनता हूँ हो बिना हाथ के,
ले लो मेरे हाथ।
उनके द्वारा जो चाहो सो,
करो जगत में नाथ।
माथ मैं तुम्हें झुकता हूँ,
तुम्हे कुछ देने लाता हूँ।
सुनता हूँ हो बिना पैर के,
ले लो मेरे पैर।
उनके द्वारा जब चाहो तब,
करो जगत की सैर।
गैर के पास न जाता हूँ,
तुम्हे कुछ देने आता हूँ।
सुनता हूँ हो बिना गात के,
ले लो मेरे गात।
जिसको चाहो उसको दर्शन,
दिया करो दिन रात।
बात हित की बतलाता हूँ,
तुम्हे कुछ देने लाता हूँ।
यानी अपनी इच्छा की लो,
बना मुझे तसवीर।
सेवा करूँ तुम्हारे जग की,
जब तक रहे शरीर।
तीर सा दौड़ा आता हूँ।
तुम्हे कुछ देने लाता हूँ।