भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाहर-बाहर मेला है / गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाहर-बाहर मेला है।
भीतर बशर अकेला है।।

उसके जैसा और कहाँ,
वह सबसे अलबेला है।।

सत्ता ज्यों ही हाथ लगी,
भाई खुल कर खेला है।।

थाने से न्यायालय तक,
नियमों की अवहेला है।।

अब जीवन में लुत्फ कहाँ,
बस यादों का रेला है।।

ज्ञान गुरु बाँटें किसको,
पीठाधीश्वर चेला है।।

अच्छी ग़ज़ल लगा कहने,
उसने इतना झेला है।।

इश्क नहीं आसान ‘मृदुल’,
इसमें बहुत झमेला है।।