भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाहर से दिखाने के लिए भीड़-भाड़ है / श्याम कश्यप बेचैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाहर से दिखाने के लिये भीड़-भाड़ है
अंदर से वह मकान तो बिल्कुल उजाड़ है

साए के लिये सिर पे नहीं एक झाड़ है
लोगों की ज़िन्दगी यहाँ चटियल पहाड़ है

इन हादसों के दौर में मत ढूँढिए सुकून
सब के दिलो-दिमाग़ में बस मार-धाड़ है

सूखे से बच गए हैं तो डूबेंगे बाढ़ में
इस साल दुर्बलों के लिए दो आषाढ़ है

एकटक वो घूरते हैं फ़क़त आसमान को
उनकी नज़र में कोई न तिल है न ताड़ है