भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिछोह / होदा एल्बन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: होदा एल्बन  » बिछोह

तुम हो
कि वहाँ बना रहे हो एक घर
और मैं हूँ
यहाँ ढहाती हुई
स्मृतियाँ एक-एक कर

तुम्हारा घर तो
खुला रहेगा सारी दुनिया के लिए
पर मेरी स्मृतियाँ
कुछ भी तो नहीं
तुम्हारी निगाहों की पहुँच के सिवा...


अंग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र