भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिना परीक्षा / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिना परीक्षा दिए छिपकली,
हो गई पहली कक्षा पास।

दीवारों पर घूम रही थी,
फिर भी चिंतित और उदास।

किए बिना श्रम मिली सफलता,
उसे न आई बिलकुल रास‌।

नाम लिखाने फिर पहली में,
पहुँच गई शिक्षक के पास।