भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिना बादळ / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूना
सूका खेत
भंवती रेत
चिड़ी-कागला
बिच्छू-कांटा
सांप-सळीटा
तजग्या हेत
रूंख-बेलडयां
पान-फूस
घास-डचाब
भखगी रेत।

मन रा मोरिया
बिना बादळ
नाचै ककीर
मुरधर हेत।