भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिना शीर्षक-2 / विजया सती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोचने से मेरी उलझनें बढ़ी हैं

चाहती हूँ, सोचना छोड़ दूँ !

बहरहाल

मेरी उलझनें

बढ़ गई हैं

क्योंकि मैं

सोच रही हूँ

सोचना कैसे छोड़ दूँ ?