भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

बिन्दी तो तुम पैरो हो बनीजी / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बिन्दी तो तुम पैरो हो बनीजी,
तुमखऽ बन्दड़ाजी बुलावऽ।।
थारा रंगमहल कसी आऊं रे बना,
म्हारा झाँझरिया की रूणुक-झुणुक,
म्हारा पिताजी सुणी लीसे।
थारा पिताजी की गाळई हो बनी,
मखऽ बहुतज प्यारी लागऽ।।