भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिम्ब अकेले / लेस मरे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लाल तलवार को ओढ़ाया हुआ कपड़ा,
उजला-भफाते हुए भात जैसा,
अपराजिता-सा नीला।
पिटे-पिटाए से पुराने नगर,
आदमी की हरी छाल में मेंढक!
जोते हुए खेतों पर चलता हरवाहा डगमग जैसेकि ज़ंजीरों में
ईंट के गलियारों में इधर-उधर दौड़ते हुए युवकों की हू-हा पर
कौंधा विचार-
कौंधा, जैसे कौंधते हैं कच्चे टाँके
तुड़े-मुड़े रेशम पर,
या कौंधा, ऐसे जैसे झपट लेनी है उसको गोली उछलकर।


अंग्रेज़ी से अनुवाद : अनामिका