भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीच का पहाड़ / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम लोगों ने वर्षों की मेहनत के बाद
एक पहाड़ बनाया
हम चोटी पर थे, नीचे देखा
सब कुछ बड़ा अविश्वसनीय लग रहा था
लोग बौने हुए।

हम नीचे आ गए, देखा
पहाड़ पर चलते-फिरते सभी उसी तरह
बौने हुए अब भी।

पहाड़ ने दूर-दूर तक खइयाँ बना दी थीं
जो नजर आ रहा था, गलत था
जो सही था, नजर नहीं आ रहा था
हम लोगों ने तय कर लिया है-
यह पहाड़ अब खड़ा नहीं रहेगा !