भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीच मझधार के वो फँसा रह गया / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बीच मझधार के वो फँसा रह गया
जो किनारों को ही देखता रह गया

चुप्पियाँ, चुप्पियाँ ही थीं दोनों तरफ़
हाले-दिल अनकहा, अनसुना रह गया

हक़ की ख़ातिर जो मुंसिफ़ से तकरार की
फ़ैसला झूलता , झूलता रह गया

जब कभी संगदिल नेट् उड़ा यक-ब-यक
गुफ़्तगू का हसीं सिलसिला रह गया

कोशिशों से भी मंज़िल न जब मिल सकी
रह गये पाँव और रास्ता रह गया

बेवफ़ाई का ग़म था कुछ ऐसा कि जो
उम्र-भर सालता, सालता रह गया

जिसको आँखों में पाला किये दम-ब-दम
ख़्वाब 'दरवेश' वो दीद का रह गया