भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीज-2 / निर्मल आनन्द

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह बीजों की
यात्रा का मौसम है

पक कर फूट रहे हैं सेमल
रेशम की तरह मुलायम
बगुलों से झक्क सफ़ेद पंख लिए
हवा में तैर रहे हैं बीज

एक जंगल से दूसरे जंगल
एक पहाड़ से दूसरे पहाड़

एक ही फल के कई-कई बीज
अलग-अलग उड़ते हुए
नहीं जान पाते
कि वे कितनी दूरी तय करेंगे
उगेंगे कहाँ किस मिट्टी में
जानते हैं इतना
जहाँ भी उगेंगे
एक जैसे पत्ते
एक जैसे होंगे फूल
फलेंगे एक ही मौसम में ।