भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीते पल / कल्पना लालजी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन मेरा फिर आज किया मैं भी बच्चा बन जाऊँ
छोड़ झमेले दुनियादारी के मीलों की फिर दौड लगांऊ
छूमंतर हो गया बचपना कैसे और कब जान न पाया
आँख खुली जब मेरी एक दिन राशन का थैला हाथ में पाया
गिल्ली डंडा और पतंगे रख तकिये के नीचे सोता था
मेरी कन्नी काटी किसने बरसों बीते जान न पाया
दौड भाग की बात न पूछो आगे ही आगे रहता था
कड़ी धूप और वर्षा को भी हँसते–हँसते सहता था
अठखेलियां बचपन की याद आज भी आती हैं
कानो से जब किलकारियां अनजाने ही टकराती हैं
कहाँ उड़ गए सोने के पल आज़ादी के साँझ–सवेरे
छोड़ गए क्यों बेड़ियों में जकड़े मेरे अरमान सारे