भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बुढ़ापा आने तक / चन्द्र प्रकाश श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसने जाना
घर की सांकल खटखटाती
दुकानों की मंशा को

उसने पहचाना
पैकेटों-ठण्डी बोतलों में बंद
ज़हरीली गंध को

समझा उसने
सिक्कों की खनखनाहट में छिपे
ध्वनि- संकेतों को

आखिर भॉंप ही लिया उसने
चकाचौंध कर देने वाली
रोशनियों का मर्म

लेकिन....
तब तक वह
बूढ़ा हो चला था