भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बुदबुदाते हुए / वत्सला पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कविता
लिखी जा रही थी
देह पर

मैं बुदबुदा सकी
सिर्फ तुम्हें

कितनी ही देर तक
सोचती रही
तुम्हारे नाम लिखी
कविता के शब्द