भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बूँद और रिश्ते / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कल बारिश में भींगते हुए
कितनी ही बूंदों को
मैंने झटक दिया

सब गिर कर टूट गई

आज गालों को हाथ लगाया
कुछ सहमीं सी गर्म बूंदें मिलीं

कैसे कैसे रूप बदल कर चली आती है
बूँद बारिश रिश्ते और ख्याल

टूटते हैं पर हमसे छूटते नहीं...