भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बूँद बनूँ झर जाऊँ / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किससे सीखा प्यारी बूंदों
झरझर झर का गाना।
किससे सीखा प्यारी बूंदों
सब का मन हर्षाना।

अच्छा लगता होगा तुमको
बादल के घर रहना।
अच्छा लगता होगा तुमको
धरती पर आ जाना।

कभी-कभी मन करता मेरा
बूद बनूं झर जाऊं।
हर प्यासे को गले लगाकर
गीत मधुर सा गाऊं।