भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बूची / इंदिरा शबनम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बूची...
उन अबहमि जो नालो
जा,
अठें सालें जी उमिरि में
चइनि-पंजनि मर्दनि जे
वहिश्त जो शिकारु बणी
जिनि खे हूअ मासूम नींगरी
हूअ अबहमि
काका, दादा, भाऊ, मामा
चई सॾीन्दी हुई।
उन्हनि रिश्तनि में
विश्वासु रखन्दी हुई,
जे रत जे रिश्तनि खां
बेहद क़रीब
बेहद वेझा हून्दा हुआ।
जे रत जे रिश्तनि ते न ॿधल
अक़ीदे भरोसे ते ॿधल हुआ।
अजु हूअ हास्पीटल में,
पोयां पसाह खणी रही आहे
हुन जी समझ खां ॿाहिर
उलझियल हालतुनि
समाज जे गंदगियुनि,
जिस्म जे सौदागरनि

मासूम पाक रिश्तनि जो
मातमु मनाईन्दड़,
बूची।
अठें सालें जी उमिरि जी
जा कुझु बि
समुझण खां क़ासर आहे।
अजु हूअ पापी रिश्तनि जी
हिन नालाइक़ दुनिया मां,
नाकाम थी...
बहिशत जो शिकारु थी,
हमेशा लाइ विदा वठी रही आहे।
हैफ़ विझी...
कंहिं चाचे, मामे,
पीउ भाउ जे
मञुता वारनि रिश्तनि ते...