भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बूढ़ा किसान / हरिवंशराय बच्चन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अब समाप्‍त हो चुका मेरा काम।

करना है बस आराम ही आराम।

अब न खुरपी, न हँसिया,

न पुरवट, न ल‍‍ढ़िया,

न रतरखाव, न हर, न हेंगा।


मेरी मिट्टी में जो कुछ निहित था,

उसे मैंने जोत-वो,

अश्रु स्‍वेद-रक्‍त से सींच निकाला,

काटा,

खलिहान का ख्‍लिहाल पाटा,

अब मौत क्‍या ले जाएगी मेरी मिट्टी से ठेंगा।