भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बूढ़ा बरगद फिर हरियाया है / प्रदीप शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुनो, गाँव का
बूढ़ा बरगद
फिर हरियाया है
सुनी बतकही
हमने थी
कुछ नए परिंदों की
राजा ने भी फ़ौज लगाई
है कारिंदों की
उसके सपने में
शायद
कुलदेवा आया है

आशाओं के
नए नए
फिर किल्ले फूटे हैं
मजबूती के खम्भे भी
दिख रहे अनूठे हैं
परदेशी बादल ने
उस पर
जल बरसाया है

बाजों की
संख्या में लेकिन
कमी नहीं आई
एक हठीली चिड़िया देखो
फिर से चिचियाई
अभी
सगुन पंछी ने
कल ही नीड़ बनाया है
सुनो, गाँव का
बूढ़ा बरगद
फिर हरियाया है