भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेटियाँ पुनः पुनः आती हैं नैहर / निधि सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेटियाँ पुनः पुनः आती हैं नैहर
बाबा को देखने
माँ से मिलने
भाई भाभी से नेह का धागा मज़बूत करने
कुछ भूले अभूले रिश्तों में
मुट्ठी भर समय डालने

थोडा खुद को बेफिक्री में खोने
थोडा सब को फ़िक्र में पाने
और पुनः बिछड़ने.