भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेटी और पिता का संवाद / ऋतु त्यागी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेटी ने पिता से कहा
"जानते हो आप मेरे हीरो क्यों हो"
पिता की उत्सुक नज़रें
बेटी के चेहरे पर
चाँदनी की तरह फैल गयी
"क्योंकि आप मेरी
सहमतियों और असहमतियों के साथ
बिना किसी शर्त के
मेरे पीछे किसी वृक्ष की तरह
आकर खड़े हो जाते हो"
पिता बेटी के चेहरे को
दिप-दिप करते हुए
शाँत भाव से देख रहा था।