भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेटी देस हिण्डयो परदेस / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बेटी देस हिण्डयो परदेस
साँवल वरअ् नी मिल्यो
ओका काका ख देओ रे बुलाय
साँवल वरअ् ढूँढ लाहे।
काका भी कहता है- बेटी देस गयो, परदेस गयो
साँवल वर नी मिल्यो
ओका भय्या खऽ देओ रे बुलाय
साँवल वर ढूँढ लाहे।
भाई कहता है- बहिन देस गयो परदेस गयो
साँवल वरअ् नी मिल्यो