भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेटी / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दरअसल गम थे इतने गहरे
कि रोने की रस्म हो न सकी
और डोली उठ गई ।

विदा हुई जो बेटी
लेती रही हिचकियाँ,
खड़ी रही जो माँ
भरती रही सिसकियाँ ।

वे जो दान-पुण्य के भागी
खोलकर बैठे बही-किताब,
किससे कितना लिया-दिया
होनी थीं बातें साफ ।

डोली उठ जाने के बाद
बेटी हुई कल की बात,
आज की थी जो बात
रिश्तों का जैसे उपाख्यान ।

एक ज़माना था वह भी
कि लोग-बाग रोते थे,
विलाप का भी था राग
रूदन में थी करूण-कथा ।

याद है उस उदास समय में
माँ, बेटी, बुआ, चाची,
दादी, काकी सब आपस में
करते थे रोने में संवाद ।

संवाद जो बजता था आँखों में
वह गीत से कम नहीं था,
भूले-बिसरे यादों की गाँठे खुलतीं
पानी में ही सब कड़वाहट धुलती ।

अब ज़ख़्म हुए गहरे
दर्द की दवा हो न सकी
और डोली उठ गई ।