भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेटे की सीख‌ / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेटे ने उस दिन बापू से,
कहा, पिताजी वोट डालिये|
आज मिला चुनने का मौका,
इस मौके को को नहीं टालिये|

यह अवसर भी गया हाथ से,
पांच साल फिर न आयेगा|
थोड़ी सी गफलत के कारण,
गलत आदमी चुन जायेगा|

ऐसे में तो अंधकार के,
हाथों सूरज हार जायेगा|
झूठों के चाबुक सॆ सच्चा,
निश्चित ही सच मार खायेगा|

यह कहना है व्यर्थ पिताजी,
कि चुनाव से क्या करना है?
“सच्चाई के वोट वोट से,
अच्छों की रक्षा करना है|”

उठो पिताजी करो शीघ्रता,
अच्छे मतदाता बन जाओ|
किसी योग्य अच्छे व्यक्ति को,
चलो वोट डालकर आओ|