भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेमाना सुवाल छो थो करीं? / मोतीलाल जोतवाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जेकॾहिं हिकु वार कारण-कार्य जे
सिरिश्ते, ‘सिस्टम’
ईश्वर-पदु पातो
ऐं इहो तइ थियो
त सही कर्म जो सही फलु मिले थो
त तूं इहो छो पुछीं थो-
छो फ़लाणो बेईमान माण्हू, घर वेठे ई
लखें रुपया ठाहे थो
ऐं ईमान्दार माण्हू फ़ाक़ा कढे थो?

जेकॾहिं थोरी बर्सात पवण सां
सड़कूं टुटी पेयूं आहिनि,
गटर बन्द थी विया आहिनि
त तूं समाचार-सम्पादक सां मिलु।
हिन्दुत्व जो कहिड़ो नओं रूपु आहे
या छा हाणे असीं सभु अॻे जियां
गडु नथा रही सघूं-
त तूं पंहिंजो इहो लेखु वीचारि
सम्पादक खे ॾेखारि।
भाई, अख़बार हिकु श़ख्सु न,
बल्कि हिकु सिरिश्तो, ‘सिस्टम’ कढन्दो आहे।
जेकॾहिं के माण्हू उन ‘सिस्टम’ खे
विकिणी जावा कनि था
त तूं इहो छा पुछीं थो-
छो फ़लाणे ॾींहुं फ़लाणे सुफ़े ते
ख़बर जे बजाइ अफ़्वाह छपियो हो?

चाहे इनसान जोड़ियो आहे
इहो सूचना-राजपथु
पर इन ते हले थी शख़्स जी
इनसान नथो बुधाए सघे
त इन ते शख़्सु इहो सभु कुझु
छा करे रहियो आहे।
अगर कंप्यूटर नथो वञी रहे
इहो सिरिश्तो, ‘सिस्टम’ जोड़ीन्दड़नि जो
वञी रहे थो प्रोग्राम ‘फ़ीड’ कन्दड़नि जो
त तूं इहो छो पुछीं थो-
जेकॾहिं तूं पंहिंजे हिस्से जी
ज़िमेवारी नथो निबाहीं
त बेमाना सुवाल छो थो करीं?