भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेयरा / सौरभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पुराने रेस्तरां का
झुका हुआ सा
वह बूढ़ा बेयरा
आज फिर अपनी ड्यूटी पर हाजिर है
आते ही जैकेट पहन लग गया है प्लेटें पोंछने
भीड़ देख कर हमेशा की तरह
आज भी उत्साहित है
तब बेटी रा बस्ता एक मुद्दा था
आज उसकी शादी
जल्दी-जल्दी हाथ चलाता वह
आतुर है आर्डर लेने को
उसके टेबल पर आज पुराने साहब विराजमान हैं
हाथों में सिगार लिये
अच्छी टिप मिलने की उम्मीद में
और खिल उठा उस का चेहरा
एक हम ही तो हैं जिनकी
ऊपर की कमाई में ईमानदारी है
वह हंस कर कहता।
साहब को सेल्यूट मार
उनका चिरपरिचित आर्डर सर्व किया
अब बीस रुपये का टिप कमा
वह उछल रहा है
टेबिल खाली होते ही
अगले ग्राहक के इंतजार में
फिर से आतुर है
वह झुका हुआ सा, बूढ़ा बेयरा।