भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेसन‌ की मिठाई / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेसन की मिठाई है आई रे,
मोरे मम्मा ने भेजी|
मम्मा ने भेजी और माईं ने भेजी|
बेसन की मिठाई है आई रे,
मोरे मम्मा ने भेजी|

देखो मिठाई है कितनी गुरीरी,
घी की बनी है और रंग की है पीरी|
माईं ने ममता मिलाई रे,
मोरे मम्मा ने भेजी|

काजू डरे हैं और किसमिस डरी है,
पिस्ता की रंगत तो कैसी हरी है|
सिंदूरी केसर मिलाई रे,
मोरे मम्मा ने भेजी|

नाना ने मीठे के डिब्बा बनाये,
नानी ने रेशम के धागे बंधाये|
जी भरकें आशीष भिजवाई रे,
मोरे मम्मा ने भेजी|

डिब्बा में निकरीं हैं सतरंगी चिठियां,
चिठियों में लिक्खी कैसी मीठी बतियां|
चांदी सी चमके लिखाई रे,
मोरे मम्मा ने भेजी|
बेसन की मिठाई है आई रे,
मोरे मम्मा ने भेजी|